Best Poem in Hindi for Kids and Youngsters

नमस्कार फ्रेंड्स, Poem in Hindi ( हिंदी कविताए ) यहाँ पर छोटे बच्चो से लेकर बड़े युवा विद्यार्थी सभी के लिए कविताए दी गई है। इनमेसे कई साड़ी ऐसी कविताए है जो आपको अपने मार्ग पर खड़े रहने में मदद करेंगी और आपके सरीर में एक अलग प्रकार की ऊर्जा संचय होगा। मुझे आशा है की इन कविताओं को पढ़ने के बाद आप जीवन में कुछ करने के लिए समर्थ बनेंगे।

poem in hindi

Poem in Hindi

1. सूरज जल्दी आना जी!

एक कटोरी, भर कर गोर

धुप हमें भी लाना जी।

सूरज जल्दी आना जी।

जमकर बैठा यह कुहासा

आर-पार न दीखता है।

ऐसे भी क्या कभी कभी के

घर में कोई टिकता है ?

सच-सच जरा बताना जी।

सूरज जल्दी आना जी।

कल की बारिश में जो भीगे

कपडे अब तक गीले है।

क्या दीवारे, क्या दरवाजे

सब के सब ही सिले है।

छोड़ो आज बहाना जी।

ना, ना, ना, ना, जी ।

सूरज जल्दी आना जी।

चिटी रानी

सुघड़ सयानी चिटी रानी

मीठी चीजों की दीवानी

जितनी छोटी उतने गुण

सदा काम करने की धुन

एक बार जो दिल में ठाना

बस पूरा कर के दिखलाना

Poem in Hindi for Kids

2 .चन्दा मामा

चंदा मामा गोल मटोल,

कुछ तो बोल, कुछ तो बोल

कल थे आधे, आज हो गोल,

खोल भी दो अपनी पोल।

रात होते ही तुम आ जाते,

संग-साथ सितारे लाते।

लेकिन दिन में कहा छिप जाते,

कुछ तो बोल, कुछ तो बोल।

सवेरा

सूरज निकला मिटा अँधेरा,

देखो बच्चो हुआ सवेरा ।

आया मीठी हवा का फेरा,

चिडियोने फिर छोड़ा बसेरा।

जागो बच्चो अब मत सोओ,

इतना सुन्दर समय मत खोओ।

3. मेरी गुड़िया

मेरी गुड़िया, मेरी गुड़िया ।

हसी खुसी की है ये पुड़िया ।।

में इसको कपडे पहनाती ।

इसको अपने साथ सुलाती ।।

ये हे मेरी सखी सहेली ।

नहीं छोड़ती मुझे अकेली ।।

ना ये ज्यादा बात बनाये ।

मेरी बात सुनती जाए ।।

गाना इसको रोज सुनाती ।

लेकिन खाना ये नहीं खाती ।।

Hindi Poem

4. छोटी का कमाल

समरसिंह थे बहुत अकड़ते,

छोटी, कितनी छोटी ।

मै हु आलू भरा पराठा,

छोटी पतली रोटी ।

मै हु लंबा, मोटा तगड़ा,

छोटी पतली दुबली ।

मै मोटा पटसन का रस्सा,

छोटी कच्ची सुतली ।

लेकिन जब बैठे सीसा पर,

होश ठिकाने आये ।

छोटी जा पहुंची छोटी पर,

समरसिंह चकराए ।

5. एक-एक

एक एक यदि पेड़ लगाओ,

तो तुम बाग़ लगा दोगे।

एक एक यदि आईटी जोड़ो,

तो तुम महल बना दोगे।

एक एक यदि पैसा जोड़ो,

तो तुम बन जाओगे धनवान।

एक एक यदि अक्षर पढ़ लो,

तो बन जाओगे विद्वान।

6. चिड़िया

इक इक तिनका जोड़कर चिड़िया

अपना घर बनाती है।

धुप, हवा, बारिस से

अपना परिवार बचाती है।

महेनत से तुम ना घबराना

हम सब को सिखलाती है।

छोटे- छोटे हाथो से वह

बड़े काम कर जाती है।

Hindi Poem for Kids

7. बचपन

कागज की कस्ती थी पानी का

किनारा था

खेलने की मस्ती थी ये दिल भी

आवारा था

कहा आ गए इस समजदारी के

दल दल में

वो नादान बचपन भी कितना

प्यारा था

8. वो भी क्या दिन थे

मम्मी की गोद और पापा के कंधे

ना पेसो की सोच और

ना ही लाइफ के फंडे,

ना कल की चिंता और

ना फ्यूचर के सपने,

लेकिन अब कल की है फिक्र

और अधूरे है सपने

पीछे मूड के देखा तो

बहुत दूर थे वो अपने, मंजिलो को

ढूंढते ढ़ंढते कहा खो गए हम

क्या सच में इतने बड़े हो गए हम।

9. बचपन की यादे

वो बचपन भी कितना सुहाना था,

जिसका रोज एक नया फ़साना था ।

कभी पापा के कंधो का,

तो कभी माँ के आँचल का सहारा था ।

कभी बेफिक्रे मिटटी के खेल का,

तो कभी दोस्तों का साथ मस्ताना था ।

कभी लगे पाँव वो दौड़ का,

तो कभी पतंग ना पकड़ पाने का पछतावा था ।

कभी बिन आंसू रोने का,

तो कभी बात मनवाने का बहाना था ।

सच कहु तो वो दिन ही हसीन थे,

ना कुछ छिपाना और दिल में जो आये बताना था । नेहा वनकर

Poem on in Hindi

10. कोसिस करने वालो की

लहरों से दर कर नौका पार नहीं होती,

कोसिस करने वालो की कभी हार नहीं होती ।

नन्ही चींटी जब दाना लेकर चलती है,

चढ़ती दिवलो पर, सौ बार फिसलती है।

मन का विश्वास रगो में साहस भरता है,

चढ़कर गिरना, गिरकर चढ़ना न अखरता है ।

आखिर उसकी महेनत बेकार नहीं होती,

कोसिस करने वालो की कभी हार नहीं होती ।

डुबकियां सिंधु में गोताखोर लगाता है,

जा कर खाली हाथ लौटकर आता है,

मिलते नहीं सहज हिन् मोती गहरे पानी में।

बढ़ता दुगना उत्साह इसी हैरानी में,

मुट्ठी उसकी हर बार खली नहीं होती,

कोसिस करने वालो की कभी हार नहीं होती ।

असफलता एक चुनौती है, इसे स्वीकार करो,

क्या कमी रह गई, देखो और सुधार करो ।

जब तक न सफल हो, नींद चैन को त्यागो तुम,

संघर्ष का मैदान छोड़कर मत भागो तुम ।

कुछ किये बिना ही जयजयकार नहीं होती,

कोसिस करने वालो की कभी हार नहीं होती।

Poem in Hindi About Life

11. सपनो में रख आस्था

सपनो में रख आस्था कर्म तू किये जा,

त्याग से ना डर आलस परित्याग किए जा।

गलती कर ना घबरा,

गिरकर फिर हो जा खड़ा।

समस्याओ को रास्तो से निकाल दे,

चट्टान भी हो अगर तो ठोकर से उछाल दे ।

रख हिम्मत तुफानो से टकराने की,

जरुरत नहीं है किसी मुसीबत से घबराने की ।

जो पाना है उसकी बस एक पागल की तरह चाहत कर,

करता रह कर्म मगर साथ में खुदा की इबादत भी कर ।

फिर देख हिम्मत क्या क्या रंग दिखलायेगी,

तुझको तेरी मंजिल मिल जायेगी, मंजिल मिल जायेगी ।

Hindi Poem on Life

12. हिमालय

युग युग से है अपने पथ पर

देखो कैसा खड़ा हिमालय ।

डगता कभी ना प्रण से

रहता प्रण पर अड़ा हिमालय ।

जो जो भी बाधाए आयी

उन सब से ही लड़ा हिमालय।

इस लिए तो दुनिया भर में,

हुआ सभी से बड़ा हिमालय।

अगर ना करता काम कभी कुछ

रहता हरदम पड़ा हिमालय,

तो भारत के सीस चमकता

नहीं मुकुट सा जड़ा हिमालय।

खड़ा हिमालय बता रहा है

डरो ना आंधी पानी से,

खड़े रहो अपने पथ पर

सब कठिनाई तूफानी में ।

डिगो न अपने प्रण से तो

सब कुछ पा सकते हो प्यारे।

तुम भी ऊँचे हो सकते हो

छू सकते नभ के तारे।

अचल रहा जो अपने पथ पर

लाख मुसीबत आने में,

मिली सफलता जग में उसको

जीने में मर जाने में ।

Hindi Poem About Life

13. रात भर इन बंद आँखों से भी क्या क्या देखना

रात भर इन बंद आँखों से भी क्या क्या देखना

देखना इक ख़्वाब और वो भी अधूरा देखना

कुछ दिनों से एक अजब मामूल इन आँखों

कुछ आये या ना आये फिर भी रास्ता देखना

ढूँढना गुलसन के फूलो में उसी की शक्ल को

चाँद के आईने में उसका ही चहेरा देखना

खुद ही तन्हाई में करना ख्वाहिशो से गुफ्तगू

और अरमानो की बर्बादी को तन्हा देखना

तशनगी की कौन सी मंजिल है ये परवरदिगार

शाम ही से ख़्वाब में हररोज दरिया देखना।

Poems in Hindi

पेड़ लगाओ

धरती की बस यही पुकार,

पेड़ लगाओ बारम्बार ।

आओ मिलकर खसम ये खाए,

अपनी धरती हरित बनाये ।

धरती पर हरियाली हो,

जीवन में खुशहाली हो ।

पेड़ धरती की शान है,

जीवन की मुस्कान है ।

पेड़ पौधों को पानी दे,

जीवन की यही निसानी दे ।

आओ पेड़ लगाए हम,

पेड़ लगाकर जग महकाकर ।

जीवन सुखी बनाये हम,

आओ पेड़ लगाए हम ।

धोबी आया

धोबी आया, धोबी आया

कितने कपडे लाया,

एक, दो तीन

एक, दो तीन

धोबी आया, धोबी आया

कितने कपडे लाया,

चार, पांच, छह

धोबी आया, धोबी आया

कितने कपडे लाया,

सात, आठ, नौ

सात , आठ, नौ

धोबी आया, धोबी आया

कितने कपडे लाया

दस , दस , दस

भाई ! दस दस दस !

Hindi Poems for Kids

आलू-कचालू बीटा कहा गए थे

आलू कचालू बीटा कहा गए थे ,

बन्दर की झोपड़ी में सो रहे थे ।

बन्दर ने लात मारी रो रहे थे ,

मम्मी ने प्यार किया हस रहे थे ।

पापा ने पैसा दिया नाच रहे थे ,

भैया ने लड्डू दिए खा रहे थे ।

मासूमियत सी हसी

मासूमियत सी हसी

दिल को खुस कर जाती है

उनकी खिल खिलाहट

हर गम को भुला जाती है

दर्द कितना भी हो इस जहा में

बच्चो की मुस्कान ही poem in hindi 

हर जख्म मिटा जाती है

हाथी आया

हाथी आया, हाथी आया

सूंढ़ हिलता हाथी आया

बच्चो देखो हाथी आया

जूम जूम कर हाथी आया

कान हिलाता हाथी आया

Poem in Hindi for Love

वो प्रेम करती है तुम्हे सदा अपने साथ रखना

उदास दिखे कभी तो हौले से हाथ पर हाथ रखना

उसके दुःख में उसके लोगो के हाथ बढ़ जाए अगर

तो उसके लिए तुम खुले अपने दोनों हाथ रखना

यु तो वो मुसीबत में कमज़ोर नहीं पड़ती है पर

दिखे आंसू कभी तो आंसू पर अपने हाथ रखना

वो तन्हा न महसूस करे खुद को भीड़ में भी कभी

निडर रहेगी उसके हाथो में अपना हाथ रखना

कहती रहती है हर बार एक यही बात मुझसे वो

मेरी मांग पर सिंदूर लिए तुम ही अपना हाथ रखना

ये हवाए भी कोसिस में hai तेरी उम्मीद बुझाने को

तू भी दिए के चारो और हाथ जमाए रखना

Poem in Hindi Love

इंकार भी नहीं तुम्हे, इकरार भी नहीं तुम्हे

इश्क में बहके बीमार हो क्या?

रोज सुबह खयालो में आते हो

अखबार का कोई इश्तिहार हो क्या?

सुनो, तुम्हे देखके सुकून क्यों मिलता है

इस दिल के पहरेदार हो क्या ?

जज्बात बिखर जाते है तुम्हारे आते ही

क्यों तुम जज्बातो का बाजार हो क्या ?poem in hindi 

वक्त बदलते देखा है

वक्त पे वक्त को बदलते देखा है

आफताब को हर शाम ढलते देखा है

जिंदगी ने दिखाया कुछ खेल ऐसा

आँखों में आंसू, और खुद को सम्भालते देखा है !!!

How to Write Poem in Hindi?

मुझे उम्मीद है ये कविताए आपको जरूर पसंद आई होगी, यहाँ पर सभी उम्र के लोगो के लिए कविताए दी गई है जिसको पढ़के कोई भी मोटीवेट हो सकता है या फिर अपने बच्चो के लिए आप ये कविताए उनको सुना सकते हो।

2 thoughts on “Best Poem in Hindi for Kids and Youngsters”

  1. Pingback: Best Bhoot Ki Kahani In Hindi for Kids - ojasgujarats

  2. Pingback: Best Hindi Paheliya for Kids With Answers - 2020

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *