Best Hindi Paheliya for Kids With Answers

नमस्कार फ्रेंड्स, (paheliya)  इस बदलते समय में ज्ञान प्राप्त करने के कई सोर्स उपलबद्ध है, लेकिन आजकल के बच्चे पुस्तक से ज्यादा मोबाइल में समय पसार करते है। उनके लिए यह कोई जहर से कम नहीं है लेकिन अगर आपको अपने बच्चो को भी खुस रखना है तो उसको मोबाइल में पढ़ने की वस्तुए लाके दीजिये। यहाँ पर दी गई paheliya आपके बच्चे का दिमाग तेज करेगा और उसकी तार्किक शक्ति में बढ़ावा करेगा। आप उसको ऐसी paheliya सुलझाने को कहेंगे तो आपको पता चलेगा उसका दिमाग कितना एक्टिव है। मुझे उम्मीद है आपको ये हिंदी paheliya  पसंद आएगी और उपयोगी बनेंगी।

paheliya

Paheliya

( इन paheliya को क्लास 4 तक के सभी बच्चे सॉल्व कर सकते है, यहाँ पर सभी paheliya सरल दी गई है जो आपको आसानी से समाज आये और उसके जवाब भी निचे दिए गए हैं )

1. ऐसा कौन सा फल है, जो मीठा होने के बावजूद बाज़ार में नहीं बिकता ?

जवाब: सब्र का फल

2. बोल नहीं पाती हु में और सुन नहीं पाती बिन आँखों के हु अंधी पर सबको राह दिखती।

जवाब: पुस्तक

3. जो करता है वायु सुद्ध, फल देकर जो पेट भरे, मानव बना है उसका दुश्मन, फिर भी वह उपकार करे ?

जवाब: पेड़

4. फल नहीं पर फल कहाऊ, नमक मिर्ची के संग सोहाउ खाने वाले की सेहत बढ़ाऊ, सीता मैया की याद दिलाऊ।

जवाब: सीताफल

5. फूल भी हु, फल भी हु और हु मिठाई तो बताओ क्या हु मै भाई ?

जवाब: गुलाबजामुन

6. डिब्बा देखा एक निराला ना ढकना न ताला न पेंदा नाही कोना बंद है उसमे चांदी सोना ।

जवाब: अंडा

paheliya

7. लाल हु में, खाती हु सुखी घास, पानी पीकर मर जाऊ, जल जाए तो आये मेरे पास ।

जवाब: आग

8. ऐसी क्या चीज है जिसे आप दिन भर उठाते रहते है, इसके बिना आप कही जा नहीं सकते ।

जवाब: कदम

9. चार अक्षर का मेरा नाम, टीम टीम तारे बनाना काम, शादी, उत्सव या त्यौहार, सब जलाये बार बार ।

जवाब: फूलजड़ी

10. हरी थी भरी थी लाख मोती जड़ी थी राजाजी के बाग़ में दुशाला ओढ़े खड़ी थी ।

जवाब: भुट्टा

यह भी पढ़े: छोटे बच्चो के लिए हिंदी कविताए

Paheli in Hindi

( यह पहेलियाँ बड़े विद्यार्थी जैसे की क्लास 7 तक के विद्यार्थी सुलझा सकते है सभी paheliyon ke उत्तर निचे दिए गए है, सभी paheliyan सरल है थोड़ी सी महेनत करने पर सॉल्व हो जाएंगी। )

11. आदि कटे तो गीत सुनाऊ, मध्य कटे तो संत बन जाऊ, अंत कटे साथ बन जाता, सम्पूर्ण सब के मन भाता ।

जवाब: संगीत

12. काली हु पर कोयल नहीं लम्बी हु पर डंडी नहीं डोर नहीं पर बाँधी जाती मैया मेरा नाम बताती ।

जवाब: छोटी

13. पैर नहीं है, पर चलती रहती, दोनों हाथो से अपना मुँह पोछती रहती ।

जवाब: घडी

14. हरी झंडी लाल कमान तोबा तोबा करे इंसान ।

जवाब: मिर्ची

15. लोहा खींचू ऐसी ताकत है, पर रबड़ मुझे हराता है, खोई सुई में पा लेता हु, मेरा खेल निराला है ।

जवाब: चुम्बक

16. एक माता के दो पुत्र दोनों महान अलग प्रकृत भाई भाई से अलग एक ठंडा दूसरा आग ।

जवाब: चन्द्रमा, सूरज

17. पत्थर पर पत्थर, पत्थर पर पैसा बिना पानी के घर बनाये वह कारीगर कैसा ।

जवाब: मकड़ी

18. ऐसी क्या चीज है जिसे बनाने में काफी वक़्त लगता है लेकिन टूटनेमे एक क्षण भी नहीं लगता ।

जवाब: भरोसा

19. कान है पर बहरी हु, मुँह है पर मौन हु । आँखे है पर अंधी हु, बताओ में कौन हु ।

जवाब: गुड़िया

20. बिन खाए, बिन पिए, सबके घर में रहता हु, ना हसता, ना रोता हु, घर जी रखवाली करता हु ।

जवाब: ताला

यह भी पढ़े: भूत की कहानिया

Paheliyan

( यह पहेलियाँ छोटे बच्चो के लिए है इन paheliya ke साथ अगर थोड़ी सी मदद करेंगे तो सीखनेमें सरलता रहेगी )

21. प्रथम कटे तो दर हो जाऊ, अंत कटे तो बंद हो जाऊ, बताओ में हु कोन ?

जवाब: बंदर

22. पानी में खुश रहता हरदम, धीमी जिसकी चाल खतर पा कर छीप जाए झट, बन जाता खुद ढाल।

जवाब: कछुआ

23. काला रंग मेरी शान, सबको में देता हु ज्ञान, शिक्षक करते मुज पर काम, नाम बताकर बनो महान ।

जवाब: ब्लैकबोर्ड

24. छत से लटकी मिल जाती है, छह पग वाली नार बने लार से मलमल जैसे कपडे जालीदार ।

जवाब: मकड़ी

25. वह क्या है जो तुम्हारा है पर उसे तुमसे ज्यादा दूसरे लोग इस्तेमाल करते है ।

जवाब: तुम्हारा नाम

26. लम्बी गर्दन पीठ पर कूबड़, घडो पानी पि जाये ठीलो पर जो सरपट दौड़े मरुथल जहाज कहाये ।

जवाब: ऊंट

27. गोल है पर गेंद नहीं, पूंछ है पर पशु नहीं, पूंछ पकड़कर खेले बच्चे, फिर भी मेरे आंसू ना आये ।

जवाब: गुब्बारा

28. सरस्वती की सफ़ेद सवारी, मोती जिनो भाते करते अलग दूध से पानी, बोलो कौन कहलाते ।

जवाब: हंस

29. मेरी पूंछ पर हरियाली, तन है मगर सफ़ेद, खाने के हु काम आती, अब बोलो मेरा भेद ।

जवाब: मूली

30. सुबह सवेरे घरकी छत पर, करता काव काव काले रंग में रंगा है पंछी मिलता गांव गांव ।

जवाब: कौआ

यह भी पढ़े: हनुमान चालीसा

Paheliyan in Hindi with Answer

31. दो अक्षर का मेरा नाम, आता हु खाने के काम, उल्टा लिखकर नाच दिखाऊ, फिर क्यों अपना नाम छिपउ ।

जवाब: चना

32. कान बड़े है, काय छोटी, कोमल कोमल बाल चौकस इतना पकड़ सके ना, बड़ी तेज है चाल ।

जवाब: खरगोश

33. एक मुँह है और तीन हाथ, कोई रहे ना मेरे साथ, गोल गोल मै चलता जाओ, सबकी थकान मिटाता जाऊ ।

जवाब: पंखा

34. नर पंछी नारी से सुन्दर, वर्षा में नाच दिखाता मनमोहक कृष्ण को प्यारा, राष्ट्र पक्षी कहलाता ।

जवाब: मोर

35. बिना बताए रात को आते है, बिन चोरी किए गायब हो जाते है, बताओ क्या ।

जवाब: तारे

36. एक राजा की अनोखी रानी, दुम के रास्ते पीती पानी ।

जवाब: दीपक

37. जंगल में हो या पिंजरे में, रौब सदा दिखलाता माँसाहारी भोजन जिसका, वनराज कहलाता है ।

जवाब: शेर

38. बड़ो बड़ो को राह दिखाऊ, कान पकड़कर उन्हें पढ़ाउ, साथ में उनकी नाक दबाऊ, फिर भी में अच्छा कहलाऊ ।

जवाब: चस्मा

39. लाल डिबिया में है पिले खाने, खानो में मोती के दाने ।

जवाब: अनार

40. कटोरे पे कटोरा, बीटा बाप से भी गोरा ।

जवाब: नारियल

मुझे आशा है की आपको यह paheliya पसंद आई होगी अगर यह paheliya आपको उपयोगी बानी है तो अपने आसपास के सभी छोटे बच्चो में शेर कीजिये। इन paheliyo आपके दिमाग की कसरत करने में उपयोगी बनी होगी।

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *